ट्रक ने मारी यात्री बस को पीछे से टक्कर : 01 मौत 18 घायल

 

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। सिवनी में वाहनों की रफ्तार और उन पर वाहन चालकों का नियंत्रण न रहना लोगों के लिये परेशानी का सबब बना हुआ है। कई बार तो एक छोटी सी भूल भी लोगों की जान ले लेती है। गुरूवार 15 नवंबर की सुबह लगभग ग्यारह बजे सिवनी से जबलपुर की दिशा में जा रही एक बस को तब एक ट्रक ने पीछे से टक्कर मार दी जब उक्त बस सवारी को उतारने के लिये एक स्थान पर रूकने जा रही थी।

दुर्घटना के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार सिवनी से एसआरटी की बस क्रमाँक एमपी 22पी 0227 जबलपुर जाने के लिये रवाना हुई। बताया जाता है कि गोरखपुर टेक के समीप एक सवारी को उतारने के लिये इस बस के चालक ने जब अपने वाहन की रफ्तार को कम करना आरंभ किया तभी इस बस के पीछे तेज रफ्तार में चल रहे ट्रक क्रमाँक पीएस 07यूबी 7011 के चालक ने लापरवाही पूर्वक वाहन का चालन करते हुए इस बस को जोरदार टक्कर मार दी।

यह टक्कर इतनी जबर्दस्त थी कि बस में सवार एक यात्री सिवनी के एकता कॉलोनी स्थित शांति नगर निवासी शैलेष कुमार (40) पिता नंद लाल साहू ने मौके पर ही दम तोड़ दिया। इसके साथ ही अन्य कई यात्री गंभीर रूप से घायल हो गये जिनमें तीन महिलाएं भी शामिल हैं।

घायल यात्रियों में छतरपुर जिला निवासी हेमंत बाई (52) पति मेहतलाल राउत, बरघाट निवासी त्रिवेणी (25) पति तरू राहंगडाले, बबरिया निवासी पूजा (36) पति नीरज पाठक, नीरज (39) पिता एस.बी. पाठक, गण्डाटोला रूखड़ निवासी रमेश (50) पिता किशन, सिवनी निवासी चैन सिंह (45) पिता पूनाराम, सिवनी निवासी आधार सिंह (56) पिता पृथ्वी सिंह, छतरपुर जिला निवासी कृष्णा (25) पिता मेहतलाल एवं सिवनी निवासी शिव प्रसाद (50) पिता सत्य नारायण शामिल हैं।

इसी दुर्घटना में सिवनी निवासी दीप सिंह (58) पिता पतिराम टेकाम, कुरई निवासी महेश (43) पिता घसीटा, सिवनी स्थित शांति नगर निवासी प्रभुदयाल (59) पिता विपत लाल डहेरिया, बिहिरिया बरवाह निवासी महेन्द्र (35) पिता गुलाब, कान्हीवाड़ा क्षेत्र निवासी मेम सिंह (50) पिता रामनाथ, गण्डाटोला रूखड़ निवासी बिरजू (35) पिता अतर सिंह, सिवनी निवासी इंद्रसेन (25) पिता दशरथ, अलोनिया बण्डोल निवासी ज्ञानी प्रसाद (24) पिता नैनी चंद एवं मड़वाह छपारा निवासी राजकुमार (17) पिता भाग चंद भी घायल हुए हैं।

सभी घायलों को जिला चिकित्सालय सिवनी में उपचारार्थ भर्त्ती करवाया गया है जहाँ उनका उपचार चिकित्सकों के द्वारा किया जा रहा है। गुरूवार की सुबह लगभग 11 बजे घटित इस सड़क हादसे के बाद आनन – फानन में क्रेन को बुलवाया जाकर दुर्घटनाग्रस्त वाहनों को सड़क से हटवाया गया। बण्डोल पुलिस के साथ ही साथ डायल 100 की इस दौरान महत्वपूर्ण भूमिका रही जिनकी तत्परता के चलते मौके पर लंबे जाम जैसी स्थिति निर्मित नहीं हो सकी और घायलों को भी तत्काल स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध करवा दी गयीं।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *