मुश्किल में पड़ सकतीं हैं नीता पटेरिया!

 

रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय में ही चिपका दिये स्टीकर!

(ब्यूरो कार्यालय)

केवलारी (साई)। चुनावी बेला में अति उत्साह कभी – कभी ज्यादा ही घातक सिद्ध होता है। केवलारी में भी गत दिवस इसी तरह की घटना प्रकाश में आयी है। रिटर्निंग ऑफिसर कार्यालय में भाजपा के पोस्टर स्टीकर चिपकाने की शिकायत खुद रिटर्निंग ऑफिसर के द्वारा केवलारी थाने में दर्ज करवायी गयी है।

केवलारी थाना सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि केवलारी विधान सभा क्षेत्र के रिटर्निंग ऑफिसर के द्वारा एक पत्र डाक से केवलारी थाने को भेजा गया था। इस पत्र के साथ वीडियो रिकॉर्डिंग की सीडी भी संलग्न की गयी थी। सांसद संपत्ति विरूपण अधिनियम 1994 की धारा 03 एवं भारतीय दण्ड संहिता 34 के तहत श्रीमति नीता पटेरिया एवं भाजपा मण्डल अध्यक्ष सचिन अवधिया पर प्रकरण दर्ज किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि इस पत्र में रिटर्निंग ऑफिसर के द्वारा कहा गया था कि श्रीमति नीता पटेरिया और सचिन अवधिया के द्वारा पार्टी कार्यकर्त्ताओं के साथ केवलारी में भ्रमण के दौरान शासकीय कार्यालय, भवनों में भारतीय जनता पार्टी के पोस्टर और स्टीकर चिपकाये जाकर चुनाव का प्रचार किया जा रहा था।

सूत्रों ने बताया कि अपने पत्र में रिटर्निंग ऑफिसर ने यह भी कहा है कि श्रीमति नीता पटेरिया और सचिन अवधिया के द्वारा अनुविभागीय अधिकारी राजस्व एवं रिटर्निंग ऑफिसर के कार्यालय में भी स्टीकर चिपकाये गये हैं, जो कार्यालय के सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुआ है। इस प्रकार श्रीमति नीता पटेरिया और सचिन अवधिया के द्वारा संपत्ति विरूपण अधिनियम का उल्लंघन किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि इस पत्र में इस बात का उल्लेख भी किया गया है कि कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी कार्यालय के 01 अक्टूबर के पत्र में संपत्ति विरूपण अधिनियम के तहत जो निर्देश प्राप्त हुए थे उसके अनुसार चुनाव के समय शासकीय, अर्द्ध शासकीय, स्थानीय निकाय एवं अन्य ऐसे समस्त संस्थान जो शासकीय व्यय पर संचालित होते हैं के भवन, संपत्ति की दीवार, लोक निर्माण विभाग की सड़क, राष्ट्रीय राजमार्ग, टेलीफोन एवं बिजली के खंबे पर चुनाव प्रचार किये जाने पर रोक है।

सूत्रों ने बताया कि इस पत्र में यह भी कहा गया है कि कोई भी अधिकारी किसी भी अभ्यार्थी, राजनैतिक दल आदि को इन स्थानों का उपयोग करने की अनुमति नहीं देगा। न ही कार्यालय भवन या संपत्ति का चुनाव प्रचार में इस्तेमाल किया जायेगा। यदि इस तरह की कोई घटना प्रकाश में आती है तो उसकी सूचना तत्काल ही संबंधित थाने को दिये जाने के निर्देश भी दिये गये हैं।

इधर, केवलारी थाने में इस तरह की प्राथमिकी दर्ज होने के बाद अब श्रीमति नीता पटेरिया की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। माना जा रहा था कि वे केवलारी विधान सभा से दावेदारी पेश करने वालीं थीं। अब जब उनके खिलाफ केवलारी थाने में शिकायत दर्ज करवायी गयी है तब उनकी दावेदारी भी खटाई में पड़ सकती है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *