अस्पताल में बढ़ी मरीजों की भीड़

 

साफ-सफाई व्यवस्था चरमरायी, अधिकारी नहीं दे रहे ध्यान

(ब्यूरो कार्यालय)

सिवनी (साई)। हैल्दी सीजन मानी जाने वाली शीत ऋतु में भी मरीजों की भीड़ जिला अस्पताल में देखी जा रही है। माना जा रहा है कि मौसम में उतार चढ़ाव के कारण ऐसे हालात बन रहे हैं। हालात यह है कि ओपीडी में मरीज कतार लगाए रहते हैं।

भीड़ के बावजूद भी अस्पताल प्रबंधन, इलाज के नाम पर कोई सुविधा नहीं दे रहा। ऐसे में मरीजों और उनके परिजनों को परेशानियां हो रही हैं। जानकारी के अनुसार इस समय ओपीडी में रोजाना सौ से तीन सौ मरीज आ रहे हैं। वहीं कई मरीज तो बिना इलाज के वापस लौटकर निजि क्लीनिक में जाने को मजबूर हैं।

सड़ांध मार रहे वार्डाें के शौचालय : जिला चिकित्सालय के वार्डाें में स्थित शौचालय सड़ांध मार रहे हैं। इससे अस्पताल में भर्त्ती मरीजों व उनके परिजनों को खासा परेशान होना पड़ रहा है। अस्पताल में साफ – सफाई की व्यवस्था लचर होने के कारण अस्पताल में ऐसे हालात बन रहे है। अस्पताल के अनेक ऐसे वार्ड है जहाँ एक बार ही सफाई की जा रही है।

अस्पताल के अंदर और बाहर गंदगी इस कदर शुमार होती जा रही है कि मरीजों में संक्रमण का खतरा बढ़ गया है। ठेकेदार द्वारा कम कर्मचारी लगाकर सफाई व्यवस्था को अंजाम दिया जा रहा है जिसके कारण अस्पताल के वार्डों की साफ – सफाई ठीक ढंग से नहीं हो पा रही है। सडांध मार रहे शौचालयों में मरीज व उनके परिजन जाने से कतरा रहे हैं और ठेकेदार चैन की बंसी बजा रहा है। लोगों ने जिला कलेक्टर का ध्यान जिला अस्पताल में फैली गंदगी की ओर आकर्षित करते हुए संबंधित ठेकेदार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की माँग की है।

मौसम में उतार चढ़ाव : वर्तमान में दिसंबर माह का प्रथम सप्ताह चल रहा है। पिछले दो सप्ताह से मौसम में उतार चढ़ाव के कारण भी आमजनों की सेहत में फर्क आया है। वर्तमान में अस्पताल में सदी जुकाम, वायरल फीवर, खांसी और सिरदर्द के अलावा उल्टी दस्त, मलेरिया, निमोनिया से संबंधित मरीज आ रहे हैं।

मरीजों को नहीं मिल रहे गर्म कंबल : वहीं ठण्ड का सीजन आरंभ हो चुका है और अब यह मौसम अपने शवाब की ओर बढ़ रहा है। इसको लेकर मौसम विभाग द्वारा सरकारी विभागों में एलर्ट भी जारी किया जा चुका है। मगर इसके बावजूद जिला चिकित्सालय में मरीजों को गर्म कंबल नहीं दिये गये। मरीजों व उनके परिजनों को अपने घरों से ही कंबल व गर्म कपड़े लाना पड़ रहे हैं।

अस्पताल में आये मरीजों को कंबल व चादर तक मुहैया नहीं करवाये जा रहे हैं। मरीजों का कहना है कि सरकार लोगों को सुविधा देने के लिये पैसे तो खर्च करती है लेकिन निचले स्तर पर बरती जाने वाली लापरवाहियां मरीजों पर भारी पड़ती हैं।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *