जिला हुआ जल अभावग्रस्त घोषित

बिना सक्षम अधिकारी की अनुमति पानी के उपयोग की गाइड लाइन जारी
(ब्यूरो कार्यालय)
सिवनी (साई)। कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी प्रवीण सिंह अढ़ायच ने संपूर्ण सिवनी जिले को 02 जनवरी से लेकर 31 जुलाई तक की अवधि के लिये जल अभावग्रस्त घोषित कर दिया है।
यहाँ जारी सरकारी विज्ञप्ति के अनुसार यह आदेश कलेक्टर प्रवीण सिंह द्वारा जिले की औसत वर्षा 1384 .50 मिलीमीटर के विरुद्ध वर्ष 2018 – 2019 में हुई 838.80 मिली मीटर वर्षा को मद्देनजर रखते हुए दिये गये हैं। औसत से 545.70 मिलीमीटर कम वर्षा से जिले के ग्रामीण एवं नगरीय क्षेत्रो में पेयजल स्त्रोत बंद होने की स्थिति में पहुँचने लगे हैं तथा भू जल स्तर प्रतिदिन कम होता जा रहा है।
विज्ञप्ति के अनुसार आने वाली ग्रीष्म ऋतु में जिले के नागरिको की पेयजल एवं निस्तार की आवश्यकता को देखते हुए कलेक्टर द्वारा मध्य प्रदेश के जल परिरक्षण अधिनियम 1986 (संशोधित 2002) की धारा-3 के अंतर्गत जिले को जल अभावग्रस्त घोषित किये जाने के परिणाम स्वरूप इस अवधि में बिना सक्षम अनुमति के कोई भी व्यक्ति किसी भी सार्वजनिक स्त्रोत यथा नदी, नालों, स्टॉप डेम, जलधारा, सार्वजनिक झरिया तथा अन्य जल स्त्रोतों के जल का पेयजल के अतिरिक्त सिंचाई एवं औद्योगिक प्रयोजन में उपयोग नहीं कर सकेगा।
जारी की गयी विज्ञप्ति के अनुसार बिना अनुमति से व्यक्ति, संगठन तथा प्राधिकरण द्वारा किये जाने वाले नलकूप खनन में पूरी तरह पाबन्दी रहेगी। इसके साथ ही नदी, नालों, जलाशय के पानी के अन्य प्रयोजन उपयोग के लिये स्थापित मोटर पंप की विद्युत विच्छेदन का कार्य विद्युत वितरण कंपनी द्वारा किया जायेगा।
विज्ञप्ति के अनुसार इसी तरह सिवनी शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में पेयजल व्यवस्था बनाये रखने के लिये भीमगढ़ डेम में पेयजल हेतु 50 एमसीएम लाइव स्टोरेज रखने के उपरांत ही सिंचाई के लिये जल नहरों के माध्यम से पानी दिया जायेगा।
प्रतिबंधित अवधि में व्यक्ति, संगठन या प्राधिकरण को सिंचाई अथवा औद्योगिक प्रयोजन के लिये पानी की आवश्यकता के साथ नवीन नलकूप खनन अथवा गहरीकरण एवं नलकूप की साफ सफाई के लिये के लिये अपना आवेदन प्राधिकृत अधिकारी को प्रस्तुत करना होगा। जिसके लिये संबंधित क्षेत्रीय अनुविभागीय अधिकारी प्राधिकृत अधिकारी होंगें। इस आदेश का उल्लंघन करता पाया जाने वाले व्यक्ति, संगठन अथवा प्राधिकरण को 02 साल का कारावास अथवा 02 हजार जुर्माना या दोनों से दण्डित किया जायेगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *