स्वच्छ भारत मिशन में पलीता लगा रही पंचायत

शौचालय निर्माण में धांधली के लग रहे आरोप
(ब्यूरो कार्यालय)
छपारा (साई)। केंद्र पोषित स्वच्छ भारत मिशन योजना के तहत घरों-घर बन रहे शौचालयों के निर्माण में 12 हजार रूपये की प्रोत्साहन राशि में बंटरबांट के आरोप लग रहे हैं। छपारा के सचिव पर सांठ-गांठ कर घटिया निर्माण के आरोप भी लग रहे हैं।
ग्रामीणों के अनुसार सरकारी इमदाद से बनाये गये शौचालय इतने घटिया गुणवत्ता वाले हैं कि उनका उपयोग ग्रामीण नहीं कर रहे हैं। ग्रामीणों के द्वारा आज भी खुले में शौच के लिये जाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। छपारा शहर में ही अनेक शौचालय घटिया गुणवत्ता वाले बने हैं।
ग्राम पंचायत छपारा के वार्ड नंबर पाँच के निवासियों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि ग्राम पंचायत से किसी अज्जू सोनी नामक व्यक्ति के द्वारा मौके पर जाकर लोगों के आधार कार्ड नंबर माँगे गये। इसके बाद वार्ड नंबर पाँच में एक ठेकेदार पहुँचे और उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि सचिव से बात हो गयी है, आपके घर में शौचालय का निर्माण आरंभ कराना है।
ग्रामीणों की मानें तो उनके घरों में शौचालय निर्माण के लिये ठेकेदार के द्वारा सात सौ ईंट, तीन बोरी सीमेंट और लगभग चालीस तसला रेत गिरवा कर शौचालय का निर्माण आरंभ करवा दिया गया। ग्रामीणों की मानें तो ये शौचालय इतने घटिया गुणवत्ता वाले हैं कि इन पर पैर रखते ही सीट नीचे बैठ जाती है।
शौचालय निर्माण में अगर गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा गया है तो इसकी जाँच करवायी जाकर दोषियों के खिलाफ कार्यवाही की जायेगी.
शिवानी मिश्रा,
सीईओ, जनपद पंचायत.
शौचालय निर्माण में गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा गया है. इसके निर्माण में सीमेंट कांक्रीट का बेस भी नहीं डाला गया है.
मनमोहन वंशकार,
हितग्राही.
दो माह पहले शौचालय का निर्माण कराया गया है. इसकी गुणवत्ता इतनी घटिया है कि पैर रखते ही सीट अंदर घुस जाती है, भय है कि कहीं दुर्घटना न घट जाये.
कांति उईके,
हितग्राही.

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *