सिवनी में भी मून डांस करते हैं अशोक

 

यातायात पुलिस का यह कर्मी बना आकर्षण का केंद्र

(अपराध ब्यूरो)

सिवनी (साई)। इंदौर में मूनवाक करने वाले रंजीत सिंह की तर्ज पर सिवनी में भी यातायात पुलिस के एक प्रधान आरक्षक के द्वारा जिस तरह यातायात को नियंत्रित किया जा रहा है उनकी कार्यप्रणाली लोगों के आकर्षण का केंद्र बन रही है।

सर्किट हाऊस चौराहे पर कई महीनों से यातायात नियंत्रित करने वाले प्रधान आरक्षक अशोक कुमार मर्सकोले के द्वारा जिस तन्मयता के साथ यातायात को नियंत्रित किया जा रहा है वह देखते ही बनता है। उनके द्वारा चेहरे पर मुस्कुराहट देते हुए बिना किसी तनाव और अवसाद या अन्य भावनाओं को अपने चेहरे पर लाये यातायात को नियंत्रित किया जाता है।

बताया जाता है कि जब वे मूड में होते हैं तो उनका निराला अंदाज लोगों को लुभाने लगता है। लोग उनकी तुलना इंदौर के मूनवाक करने वाले रंजीत सिंह से करने लगे हैं। लोगों का कहना है कि इस तरह दोस्ताना तरीके से बेहतर कार्यप्रणाली के चलते अगर यातायात को नियंत्रित किया जाता है तो यह लोगों के लिये मिसाल भी बन सकता है।

सर्किट हाऊस चौराहे पर अनेक लोग सड़क किनारे खड़े होकर अशोक मर्सकोले के द्वारा यातायात नियंत्रित करने की कला को देखते पाये जाते हैं। लोगों के द्वारा उनकी तन्मयता और स्टाईलिश तरीके को सराहा भी जाता है। लोगों का कहना है कि इस तरह के कर्मचारियों को पुरूस्कृत किया जाकर इनकी हौसला अफजाही की जाना चाहिये।

सर्दी हो, धूप हो या बारिश हो रही हो, हर मौसम में अशोक मर्सकोले के द्वारा यातायात को पूरी ईमानदारी से नियंत्रित किया जाता है। वे लंबे समय से सिवनी जिले में पदस्थ हैं, जिसके चलते उनकी पहचान वाले उन्हें देखते ही रूक जाते हैं और उनका इशारा होने के बाद ही वे नियमानुसार अपने गंतव्य की ओर रवाना होते हैं।

यहाँ यह उल्लेखनीय होगा कि सर्किट हाऊस चौराहे के यातायात सिग्नल कई महीनों से बंद पड़े हैं। इस चौराहे के अलावा जिला मुख्यालय के अलावा अन्य चौराहों पर लगे यातायात सिग्नल बंद पड़े हुए हैं। हालांकि बुधवार 11 जुलाई को कचहरी चौक के सिग्नल पुनः संकेत देते हुए नजर आये लेकिन इस पूरे मामले में न तो नगर पालिका ही कोई संज्ञान ले रही है और न ही जिला प्रशासन के द्वारा ही पालिका से किसी तरह की पूछताछ की जा रही हैै।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *