रोकी जाये होर्डिंग्स टेण्डर प्रक्रिया : बाबा पाण्डे

(ब्यूरो कार्यालय)
सिवनी (साई)। सिवनी शहर में होर्डिंग्स लगाये जाने की विसंगति पूर्ण निविदा प्रक्रिया को रोके जाने की माँग भाजपा के नगर उपाध्यक्ष अजय बाबा पाण्डेय ने की है। उन्होंने कहा है कि अभी पालिका के द्वारा शहर के सारे होर्डिंग्स हटाये नहीं गये हैं, फिर यह निविदा प्रक्रिया कैसे आरंभ कर दी गयी है।
ज्ञातव्य है कि भाजपा शासित नगर पालिका परिषद के द्वारा 29 मई को शहर में होर्डिंग्स किराये पर देने के लिये निविदा प्रक्रिया आरंभ की गयी है। नगरीय क्षेत्र में विज्ञापन होर्डिंग्स, आऊटडोर मीडिया डिवाईस, मोबाईल प्रदर्शन विज्ञापन, एलईडी आदि के होर्डिंग्स लगाने की बात इसमेें कही गयी है।
अधिवक्ता अजय बाबा पाण्डेय ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि इस निविदा प्रक्रिया के तहत निविदा के प्रपत्र 14 जून तक खरीदे जा सकते हैं। इन फॉर्म को 21 जून की शाम पाँच बजे तक जमा कराया जाना है। उन्होंने आरोप लगाया है कि पालिका परिषद के द्वारा इस प्रक्रिया में नियम कायदों का पालन नहीं किया गया है।
उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि जिला मुख्यालय में होर्डिंग्स निकालने की कार्यवाही में भी पक्षपात किया गया है। अनेक होर्डिंग्स आज भी लगे हुए हैं। उन्होंने कहा कि जो होर्डिंग्स छतों के ऊपर लगे हैं उन्हें नहीं निकाला गया है। उन्होंने कहा है कि इन होर्डिंग्स की फोटो उनके द्वारा नगर पालिका के सीएमओ को भेज दी गयी है।
अजय बाबा पाण्डेय ने सवालिया निशान खड़े करते हुए कहा कि पूर्व जिला कलेक्टर के द्वारा कंपनी गार्डन के पास होर्डिंग्स हटाने के निर्देश दिये गये थे, फिर किस आधार पर उन्हीं स्थानों पर होर्डिंग्स लगाये जाने की बात कही जा रही है। इसके अलावा रेल्वे की भूमि पर नगर पालिका के द्वारा किस हक से होर्डिंग्स लगाने की कार्यवाही की जा रही है। जिला कलेक्टर को लिखे पत्र में अजय बाबा ने विसंगतिपूर्ण इस निविदा प्रक्रिया को रोके जाने की बात कही है।

अब पाईए अपने शहर की सभी हिन्दी न्यूज (Click Here to Download) अपने मोबाईल पर, पढ़ने के लिए अपने एंड्रयड मोबाईल के प्ले स्टोर्स पर (SAI NEWS ) टाईप कर इसके एप को डाऊन लोड करें . . . आलेख कॉलम में दिए गए विचार लेखक के निजि विचार हैं, इससे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया प्रबंधन को सरोकार हो यह जरूरी नहीं है। स्वास्थ्य कॉलम में दी गई जानकारी को अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अमल में लाएं . . .

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *