स्कूलों में बंद होंगी प्लास्टिक की पानी की बोतलें!

 

(राजेश शर्मा)

भोपाल (साई)। प्रदेश और देशभर के सरकारी व निजि स्कूलों में बच्चों के प्लास्टिक बोतल लाने पर प्रतिबंध लगाने की तैयारी है, लेकिन अभिभावकों का कहना है कि सरकारी स्कूलों में पहले से पीने लायक पानी की व्यवस्था नहीं और प्लास्टिक बोतल की जगह किस बर्तन में पानी लेकर बच्चे स्कूल जायेंगे।

राज्य सचिवालय वल्लभ भवन के उच्च पदस्थ सूत्रों ने समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया को बताया कि केंद्रीय पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रात्रलय के निर्णय पर अब राज्य स्तर पर भी आदेश जारी होंगे, जिसका इंतजार शिक्षा विभाग के अधिकारी कर रहे हैं। फिलहाल अधिकारी इस निर्णय के पक्ष में नजर नहीं आ रहे, क्योंकि प्लास्टिक बोतल का विकल्प अभी तक केंद्रीय स्तर से बताया नहीं जा सका है।

प्लास्टिक बोतल के अलावा कौन सी उपयोग करें : पानी बेचने वाली बड़ी नामी गिरामी कंपनियां भी प्लास्टिक बोतल का उपयोग ही करती आ रही हैं। वहीं स्कूली बच्चे भी ऐसी ही बोतलों में पानी लेकर जाते हैं। निजि स्कूलों में पढ़ने वाले अधिकांश बच्चे महंगी कीमत वाली बोतल का उपयोग करते हैं, लेकिन सरकारी स्कूलों में सामान्य किस्म की प्लास्टिक बोतल देखने मिलती हैं। अभिभावकों का बड़ा सवाल यही है कि बच्चों को पानी कौन से मानक वाली प्लास्टिक बोतल में दिया जायेगा और बाजार में प्लास्टिक की जगह कौन से किस्म की बोतल मिलेगी।

यह लिया गया निर्णय : केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय से इस बारे में सभी राज्य सरकारों के लिये पत्र जारी किया गया है। इसमें स्वच्छता अभियान का हवाला देकर प्लास्टिक बोतलों को बंद करने की तैयारी वाला निर्णय भी शामिल है। सबसे पहला लक्ष्य सरकारी व निजि स्कूल ही हैं, जिनकी देश भर में संख्या लाखों में बनी हुई है। इनमें पढ़ने वाले बच्चों की संख्या भी करोड़ों में पहुँच चुकी है, जो प्लास्टिक बोतल का उपयोग करते हैं। हालांकि पत्र में केंद्रीय स्तर से प्लास्टिक से बनी साज सामग्री को भी प्रतिबंध के दायरे में लाने की बात की गयी है।

 

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *