बदल सकेंगे दो सौ, दो हजार के कटे फटे नोट

 

वित्त मंत्रालय की मिली मंजूरी

(ब्यूरो कार्यालय)

नयी दिल्ली (साई)। आपके 200 और 2000 रुपये के गंदे और कटे-फटे नोट बदलने का रास्ता साफ हो गया है। वित्त मंत्रायल ने इस बारे में रिजर्व बैंक के मसौदे को हरी झण्डी दे दी है। इसके लिये जल्द ही अधिसूचना जारी कर दी जायेगी।

वित्त मंत्रालय के सूत्रों ने बुधवार को बताया कि रिजर्व बैंक ने मंत्रालय के पास कटे-फटे और गंदे नोट बदलने के आरबीआई (नोट रिफण्ड) रूल्स 2009 में बदलाव का प्रस्ताव भेजा था, उसे मंजूरी देकर रिजर्व बैंक के पास भेज दिया गया है। जल्द ही नये नियम जारी कर दिये जायेंगे, जिससे आम जनता को राहत मिलेगी। मौजूदा नियम के अनुसार, अभी केवल 01, 02, 05, 10, 20, 50, 100, 500, 1000 रुपये के नोट बदलने का ही प्रावधान था।

 रिजर्व बैंक के सूत्रों ने बताया कि वित्त मंत्रालय की मंजूरी के बाद मसौदे को रिजर्व बैंक के बोर्ड के सामने मंजूरी के लिये रखा जायेगा। रिजर्व बैंक के पूर्व निदेशक विपिन मलिक ने बताया कि रिजर्व बैंक के बोर्ड की मंजूरी के बाद 200 और 2000 रुपये के नोट बदलने का रास्ता साफ हो जायेगा।

नहीं था कोई प्रावधान : कानून में ऐसा कोई प्रावधान हीं था जिसके आधार पर बैंक 2000 और 200 रुपये के गंदे, पुराने या फटे नोट बदल सकें। नोट बदलने का कानून आरबीआई एक्ट की धारा 28 के अंतर्गत आता है। इसमें नोटबंदी के पहले जैसे ही कटे फटे या गंदे नोट बदलने की इजाजत थी। नोटबंदी के बाद रिजर्व बैंक ने अब तक इसमें कोई भी संशोधन नहीं किया था। अब नये मसौदे में संशोधन कर 200 और 2000 रुपये के नोट बदलने के प्रावधान को जोड़ दिया गया है।

इसलिये पड़ी जरूरत : दो हजार रुपये के नोट नवंबर 2016 को नोटबंदी लागू होने के बाद जारी किये गये थे जबकि 200 रुपये का नोट सितंबर 2017 के बाद जारी हुआ है। देश भर में बड़ी तादाद में लोग इस बात को लेकर काफी परेशान हैं कि नोट नहीं बदले जा रहे हैं। बैंक भी कानून न होने की वजह से लोगों के नोट नहीं बदल पा रहे हैं। कानून में बदलाव होने के बाद लोगों को राहत मिल सकेगी।

बैंक अभी नहीं ले रहे हैं नोट : दो हजार का नोट जारी हुए लगभग डेढ़ साल से ज्यादा हो गये हैं। दो हजार और 200 के नोटों का भी रंग उतरने, कटने-फटने के बाद कई शहरों में शिकायतें आयी थीं कि बैंक इन्हें बदल नहीं रहे हैं। बैंकों का कहना है कि उनके पास आरबीआई से इसकी इजाजत ही नहीं है। इससे छोटी पूंजी से लेकर बड़ा कारोबार करने वाले भी परेशानी झेल रहे थे।

वरिष्ठ उपाध्यक्ष एसबीआई स्टाफ एसोसिएशन राजेन्द्र अवस्थी ने बताया कि दो हजार और दो सौ के खराब नोट बदलने के लिये रोजाना विभिन्न शाखाओं में सैकड़ों लोग पहुँच रहे हैं, लेकिन आरबीआई के निर्देशों की वजह से बैंक मजबूर हैं। इससे आये दिन बैंक शाखाओं में ग्राहकों के साथ तीखी नोकझोंक हो रही है। यह मामला दिन –  प्रतिदिन गंभीर होता जा रहा है।

 

अब पाईए अपने शहर की सभी हिन्दी न्यूज (Click Here to Download) अपने मोबाईल पर, पढ़ने के लिए अपने एंड्रयड मोबाईल के प्ले स्टोर्स पर (SAI NEWS ) टाईप कर इसके एप को डाऊन लोड करें . . . आलेख कॉलम में दिए गए विचार लेखक के निजि विचार हैं, इससे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया प्रबंधन को सरोकार हो यह जरूरी नहीं है। स्वास्थ्य कॉलम में दी गई जानकारी को अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अमल में लाएं . . .

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *