जस्टिस रंजन गोगोई चीफ जस्टिस नियुक्त

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने जस्टिस रंजन गोगोई को शुक्रवार को देश का अगला मुख्य न्यायाधीश नियुक्त कर दिया है। वह इसी साल 3 अक्टूबर से 46वें मुख्य न्यायाधीश का पद संभालेंगे। उन्हें यह पद दीपक मिश्रा के प्रधान न्यायाधीश के पद से हटने के बाद सौंपा जाएगा।

बता दें कि प्रक्रिया के तहत वर्तमान मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा ने अपने उत्तराधिकारी के लिए जस्टिस रंजन गोगोई का नाम सरकार को भेजा था, जिसपर केंद्र सरकार ने मुहर लगाई थी। गोगोई का कार्यकाल 17 नवंबर 2019 तक रहेगा। चीफ जस्टिस मिश्रा के बाद जस्टिस गोगोई सुप्रीम कोर्ट में वरिष्ठता क्रम में दूसरे नंबर पर हैं। परंपरा के अनुसार, सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जज को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बनाया जाता है। ऐसे में वरिष्ठता के आधार पर जस्टिस गोगोई का नाम सबसे आगे था।

जानिए जस्टिस रंजन गोगोई के बारे में: जस्टिस रंजन गोगोई 28 फरवरी 2001 में गुवाहाटी हाई कोर्ट के जज बने थे। इसके बाद 12 फरवरी 2011 को उन्हें पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट का मुख्य न्यायधीश बनाया गया। इसके बाद अप्रैल 2012 में उन्हें सुप्रीम कोर्ट में लाया गया।

जस्टिस गोगोई असम के रहने वाले हैं। वह पूर्वाेत्तपर भारत से देश के पहले चीफ जस्टिस होंगे। वह इस समय एनसीआर (नैशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन) अपडेट करने की प्रक्रिया की मॉनिटरिंग कर रहे हैं। पिछले साल सुप्रीम कोर्ट की प्रणाली पर सवाल उठाने वाले जजों में जस्टिस रंजन गोगोई भी शामिल थे। उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के प्रशासन और न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर सवाल उठाया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *