प्राकृतिक आपदाओं से हुईं मौतों में भारत दुनिया में दूसरा सबसे खराब देश

(ब्यूरो कार्यालय)

नई दिल्ली (साई)। खराब मौसम की वजह से होने वाली त्रासदियों और लोगों की मौत के मामले में 2017 में भारत दुनिया में 14वें नंबर पर था। 2015 में इस मामले में भारत चौथे और 2016 में छठे नंबर पर था। इस लिहाज़ से 2017 में भारत ने अपनी स्थिति में सुधार किया था, लेकिन 2018 में भारत को इस लिस्ट में दूसरे नंबर पर रखा गया है।

2013 में भारत इस मामले में तीसरे नंबर पर था, जिसके बाद से अब तक यह भारत की सबसे बुरी स्थिति है। मंगलवार को पोलैंड में हुई यून क्लाइमेट कॉन्फ्रेंस में बताया गया कि भारत ग्लोबल क्लाइमेट रिस्क ठण्डेक्स (सीआरआई) में दूसरे नंबर पर है।

सीआरआई जलवायु परिवर्तन से जुड़ी वजहों से किसी देश में प्रति लाख आबादी में लोगों की मौत के आँकड़ों से उस देश की जीडीपी को होने वाले नुकसान के विश्लेषण पर आधारित है। इस केल्कुलेशन में बाढ़, साइक्लोन, टॉरनेडो, लू और शीत लहर से होने वाली मौतों को शामिल किया जाता है। इस साल दिये गये आँकड़ों की बात करें, तो भारत में 2017 में प्राकृतिक आपदाओं से 2,736 मौतें दर्ज की गयीं, जबकि पुअर्ताे रीको 2,978 मौतों के साथ इस लिस्ट में पहले नंबर पर है।

ये आँकड़े बर्लिन के स्वतंत्र संगठन जर्मनवॉच द्वारा जारी किये गये हैं। इन्हें जारी करते हुए जर्मनवॉच की तरफ से कहा गया कि सीआरआई किसी देश में मौसम संबंधी त्रांसदियों से होने वाली मौत के बारे में बताता है। साथ ही, यह देशों को आगाह करता है कि भविष्य में ऐसे मामलों में इन देशों को और ज्यादा तैयार रहने की ज़रूरत है।

जर्मनवॉच द्वारा जारी किये गये दस्तावेज बताते हैं कि अकेले 2017 में पूरी दुनिया में 11,500 लोगों की मौत हुई और इससे लगभग 375 बिलियन डॉलर यानी 30 हज़ार करोड़ डॉलर से ज्यादा का आर्थिक नुकसान हुआ। यह आँकड़े 2017 से पहले के बरसों से मुकाबले सबसे ज्यादा हैं। 2013 में उत्तराखण्ड त्रासदी की वजह से भारत की रैकिंग बहुत खराब हो गयी थी। वहीं इस साल भारत के दूसरे नंबर पर होने की सबसे बड़ी वजह केरल में आयी बाढ़ है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *