कर्नाटक में गहराया राजनैतिक संकट

(श्‍वेता यादव)

बेंगलुरु (साई)। कर्नाटक विधानसभा में जनता दल सेक्युलर (जेडीएस) ने कांग्रेस के साथ मिलकर बहुमत तो साबित कर लिया लेकिन विभागों के बंटवारे की वजह से गठबंधन शुरुआती दौर में ही कमजोर नजर आ रहा है।

पिछले दिनों कांग्रेस विधायकों की नाराजगी के बाद अब गठबंधन सहयोगी जेडीएस ने भी असंतोष जाहिर किया है। इस बीच शनिवार को बीजेपी के नेता बीएस येदियुरप्पा ने यह दावा कर सियासी हलचल तेज कर दी कि सत्ताधारी कांग्रेस और जेडीएस के कई असंतुष्ट नेता उनकी पार्टी में शामिल होने के लिए उत्सुक हैं।

येदियुरप्पा की टिप्पणी ऐसे समय में आई है जब मंत्री पद नहीं मिलने से नाखुश कांग्रेस के कुछ विधायकों की बागी गतिविधियां तेज हो गई हैं। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपनी पार्टी के नेताओं एवं कार्यकर्ताओं से कहा कि वे मजबूत विपक्ष के रूप में काम करें और 2019 के लोकसभा चुनावों की तैयारी करें।

बीजेपी के नेताओं को संबोधित करते हुए येदियुरप्पा ने कहा, ‘जेडीएस और कांग्रेस से असंतुष्ट लोगों को शामिल करना हमारी जिम्मेदारी है।येदियुरप्पा ने कहा कि विधानसभा में 104 सदस्यों के साथ पार्टी के पास पूरी ताकत है और हमें मजबूत विपक्ष के तौर पर काम करना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘यह सरकार कितने दिनों तक चलेगी, यह अलग मामला है, लेकिन सत्ता की आकांक्षा पाले बगैर हम सभी 104 सदस्यों को अपने अच्छे कार्यों से सफल विपक्ष के तौर पर काम करना चाहिए।

जेडीएस सूत्रों ने बताया कि जीटी देवगौड़ा और सीएस पुत्ताराजू सौंपे गए विभाग को लेकर नाखुश हैं। जीटी देवगौड़ा को उच्च शिक्षा और पुत्ताराजू को लघु सिंचाई विभाग दिया गया है। बता दें कि जीटी देवगौड़ा ने मैसूर में चामुंडेश्वरी निर्वाचन क्षेत्र से पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया को शिकस्त दी थी जबकि पुत्ताराजू ने लोकसभा सीट छोड़कर मेलूकोटे से चुनाव लड़ा था और वहां से जीत हासिल की थी। उन्हें परिवहन समेत महत्वपूर्ण मंत्रालय की जिम्मेदारी मिलने की उम्मीद थी।

जेडीएस के अध्यक्ष एचडी देवगौड़ा के रिश्तेदार डीसी तमन्ना को परिवहन विभाग दिए जाने को भी उनकी नाराजगी की एक वजह बताई जा रही है। दोनों मंत्रियों के समर्थकों ने उनके क्षेत्र मैसूर और मंड्या जिले में प्रदर्शन किया और अपने नेताओं को महत्वपूर्ण मंत्रालय की जिम्मेदारी देने की मांग की।

निजी तौर पर किसी ने नहीं जाहिर किया असंतोष

इस मुद्दे पर मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि उन्हें केवल मीडिया में ही इस तरह के असंतोष की खबरें दिखी हैं और निजी तौर पर किसी ने भी असंतोष नहीं जाहिर किया है। उन्होंने कहा, ‘कुछ लोग किसी विशेष विभाग में काम करना चाहते होंगे लेकिन सभी विभागों में कुशलता से काम करने का अवसर है। हमें कुशलता से काम करना होगा।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘क्या हर किसी को उसकी इच्छा के मुताबिक विभाग मिल सकता है?’ यही नहीं, उन्होंने यह भी कहा, ‘काम करने के लिए क्या उच्च शिक्षा और लघु सिंचाई से बेहतर विभाग हैं।बता दें कि गठबंधन में सहयोगी के साथ गहन विचार-विमर्श के बाद कुमारस्वामी ने शुक्रवार को विभागों का बंटवारा किया था।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *