व्रत में रखें डाईट का ख्याल

 

साबूदाना व आलू हो सकते हैं हानिकारक

नवरात्र में देवी की आराधना कठिन पूजा – अर्चना के साथ नौ दिन के व्रत से पूरी होती है। व्रत के दिनों में सभी फलाहार को लेकर काफी उत्साहित रहते हैं। स्वाद बदलने के लिये तरह – तरह के व्यंजन भी बनाते हैं। इनमें मुख्य रूप से शामिल होते हैं साबूदाने और आलू के द्वारा बनाये गये व्यंजन।

व्रत रखने वालों में से बहुत कम ही यह जानते हैं कि खाने में स्वादिष्ट लगने वाले ये पकवान सेहत के लिये कितने नुकसानदेह होते हैं। डाईट्रीशियन्स का कहना है कि नौ दिन के व्रत में लोग जो खाना खाते हैं, उसमें वे अपने स्वास्थ्य की पूरी तरह अनदेखी करते हैं। इसका खामियाजा उन्हें लंबे समय तक भुगतना पड़ता है।

डाईट्रीशियन्स के अनुसार साबूदाने की खिचड़ी और आलू के चिप्स में ऐसा कुछ भी नहीं है जिससे शरीर को शक्ति मिले। ये सिर्फ इंस्टेंट ऊर्जा प्रदान करने का काम करते हैं। दिनभर भूखे रहना और एक समय में सिर्फ स्टार्च रिच खाना, खाना बहुत नुकसानदेह है। इसके अलावा कई लोग वजन घटाने के लिये भी व्रत रखते हैं और नौ दिन तक अन्न नहीं खाते हैं।

डाईटिंग के लिये व्रत रखना भी गलत धारणा है। असल में इससे वजन पर तो ज्यादा असर नहीं होता लेकिन शरीर में कमजोरी जरूर आ जाती है। व्रत के दौरान हैल्दी फूड नहीं लेने से माँसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। परिणाम स्वरूप थकान, चक्कर आना और कमजोरी महसूस होने लगती है, इसमें रिकवरी में भी लंबा समय लगता है।

यह समय होता है अपने शरीर को स्वच्छ करने का इसलिये ठोस खाने की बजाय तरल पदार्थों का अधिक से अधिक सेवन करें। नारियल पानी और ज्यूस के अलावा लो फेट मिल्क, दही, छांछ का सेवन भी उपयोगी होता है। इनके सेवन से थकान दूर होगी और चेहरे पर ताजगी बनी रहेगी।

फल हमेशा ही सेहत के लिये जरूरी होते हैं। यदि आप प्रायः फल कम ही खाते हैं, उनके लिये यह समय फलों को अधिक से अधिक खाने का है। व्रत के दौरान दिनभर में ड्राय फ्रूट्स खाते रहने से भी शरीर को शक्ति और एनर्जी मिलेगी। खासतौर पर बादाम और अखरोट फायदेमंद रहेंगे।

व्रत के दौरान खीरा, ककड़ी, टमाटर, गाजर, बीटरूट आदि का अधिक से अधिक सेवन करें। पनीर और टमाटर की सब्जी खायें जो स्वाद देने के साथ शरीर के लिये भी फायदेमंद है।

(साई फीचर्स)

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *