इसलिये उपवास पर नहीं खा सकते दाल चावल

 

 

 

 

 

हिंदूओं में नवरात्रि या जन्माष्टमी जैसे कई पर्व होते हैं जिसमें लोग व्रत या उपवास करते हैं। इस दौरान अन्न जैसे कि गेहूं, चावल, दाल इत्यादि चीजों को खाने से परहेज किया जाता है। उपवास में लोग फल, दूध, मिठाई का सेवन कर गुजारा करते हैं। अब सवाल यह आता है कि आखिर व्रत में हम अन्न क्यों नहीं खा सकते हैं? इसके पीछे आध्यात्मिक के साथ-साथ वैज्ञानिक कारण भी है और इन दोनों का जिक्र आज हम करेंगे।

पहले बात करते हैं धार्मिक कारण की तो इसके अनुसार, जब भी हम अन्न खाते हैं तो इससे हमारा पेट पूरी तरह से भर जाता है और इससे शरीर को आराम पहुँचता है और इंसान को संतुष्टि मिलती है। व्रत एक तरह का संकल्प है। इसमें हम अपनी इच्छाओं का त्याग कर ईश्वर को प्रसन्न करते हैं। खाने-पीने की इन सारी चीजों से मन को हटाकर पूजा में केन्द्रित करने की वजह से ही ऐसा किया जाता है। इसीलिये इस दिन फल-मिठाई का सेवन करते हैं।

अन्न में ऐसे कई तत्व होते हैं जो शरीर में आलस लाते हैं या जिससे वासना उत्पन्न होती है। अब जब नींद या वासना हमें घेर लेगी तो हम अपना ध्यान भगवान पर केन्द्रित नहीं कर पायेंगे। शायद इसीलिये उपवास करने की परंपरा की शुरूआत की गयी।

विज्ञान कहता है कि डायजेस्टिव सिस्टम को आराम पहुँचाने के लिये सप्ताह में एक दिन खाना नहीं खाना चाहिये। इससे शरीर के सारे टॉक्सिन्स बाहर निकल आते हैं और हम स्वस्थ रहते हैं। चूंकि व्रत में या तो हम नहीं खाते हैं या एक टाइम खाते हैं या हल्का भोजन करते हैं तो इससे कब्ज, गैस, अजीर्ण, सिरदर्द जैसी कई बीमारियां दूर होती है।

यानि कि इस दिन बॉडी को रेस्ट मिलता है। इसीलिये कभी-कभार व्रत बॉडी को लाभ पहुँचता है, लेकिन इसकी अधिकता कमजोरी ला सकती है जिससे आगे चलकर हमें खतरा हो सकता है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *