इमारतों से कैसे दूर होंगे बिजली के तार

 

 

मुझे शिकायत विद्युत विभाग के साथ ही साथ उन लोगों से भी है जिनके द्वारा अपने-अपने भवनों का अतिक्रमण करते हुए विस्तार कर लिया गया है और इसके चलते उनके भवन की इमारत बिजली के तारों के समीप पहुँच गयी है।

इसके चलते उन भवनों में रहने वाले बच्चों के जीवन पर जोखिम मण्डराता हुआ स्पष्ट देखा जा सकता है। नगर पालिका के साथ ही साथ जिला प्रशासन भी अतिक्रमणों को हटाने का साहस नहीं कर पा रहा है। वहीं विद्युत विभाग भी इस बात से बेपरवाह बना दिख रहा है कि यदि उसके द्वारा शहर में बिछाये गये तारों के जालों में फंसना तो दूर की बात है, यदि कोई स्पर्श ही कर जाये तो उसका जीवन समाप्त होना तय है।

आवश्यकता तो इस बात की है कि विद्युत के तारों की अण्डर ग्राउण्ड जैसी कोई व्यवस्था करते हुए शहर में मकड़ियों के जालों की तरह फैले हुए बिजली के तारों की समस्या से निजात पायी जा सके। हो सकता है कि इसके लिये विद्युत विभाग के पास पर्याप्त बजट न हो लेकिन कोई न कोई हल तो निकाला ही जाना चाहिये ताकि विद्युत के बेतरतीब फैले हुए तारों से छुटकारा मिल सके। यदि ऐसा किया जाता है तो इंसानी जीवन पर जोखिम तो कम होगा ही होगा साथ ही शहर की सुंदरता में भी चार चाँद लग जायेंगे।

इरफान हबीब

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *