कलेक्टर साब, नगर पालिका भी देख लें जाकर!

मुझे शिकायत शहर में बारिश के इन दिनों में होने वाले कीचड़ और खुले मौसम में उड़ने वाली धूल से है। धूल की स्थिति कई दिनों से बनी हुई है लेकिन इस ओर उन अधिकारियों के द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है जो शीशा बंद करके चार पहिया वाहनों में चलते हैं।
इस धूल से दो पहिया वाहन चालकों के साथ ही साथ पैदल राहगीरों को भी दो-चार होना पड़ रहा है। शहर में उड़ने वाली यह धूल कई तरह की बीमारियों का कारण बन रही है। सड़क किनारे बिकने वाली खाद्य सामग्री पर जाकर भी यह धूल बैठती है। खाद्य सामग्री को ढंककर न रखे जाने के कारण यह धूल के साथ ही लोगों के शरीर में प्रवेश करती है और फिर उत्पन्न होती हैं पेट से संबंधित ना-ना प्रकार की बीमारियां।
जिला प्रशासन की इसे छूट ही कहा जायेगा जो नगर पालिका सिवनी, शहर वासियों की ओर से बेपरवाह बनी हुई है। तमाम माध्यम चीख-चीख कर नगर पालिका की कारस्तानियों को उजागर कर रहे हैं लेकिन जिला प्रशासन इस ओर से आँखे मूंदे बैठा नजर आ रहा है। नगर पालिका के जिम्मेदारों के खिलाफ कोई कार्यवाही न होने के कारण वे सीना ठोंककर मनमानी करने पर उतारू हैं। आवश्यकता इस बात की है कि जिला प्रशासन अपनी ताकत का अहसास नगर पालिका में बैठे उन शातिर जिम्मेदारों को कराये जो जानते – बूझते लोगों की परेशानी वाले काम कर रहे हैं।
आश्चर्यजनक बात यह है कि शहर, कृत्रिम जल संकट से जूझ रहा है और दूसरी तरफ जल संकट से जूझते शहर में बारिश के दिनों में कीचड़ सड़कों पर पसर जाता है। जरा सी बारिश में ही नालियां चोक हो जाती हैं और उनका गंदा पानी सड़कों से होकर बहने लगता है। यह पानी वाहनों के गुजरते वक्त उछलकर लोगों के शरीर को गंदा कर रहा है। यही नहीं बल्कि यह गंदा पानी कई घरों की दीवारों को भी गंदा करता दिख रहा है।
समाचार माध्यमों से यह जानकारी मिली कि हाल ही में सिवनी कलेक्टर ने जिला चिकित्सालय का भ्रमण करके वहाँ की स्थितियों का जायजा लेते हुए, अव्यवस्थाओं को लेकर अधिकारियों को फटकार भी लगायी। हालांकि यह मुश्किल ही दिखता है कि जिला चिकित्सालय की व्यवस्थाएं पटरी पर आ सकें क्योंकि पूर्व में भी समय-समय पर तत्कालीन कलेक्टर्स के द्वारा जिला चिकित्सालय का भ्रमण किया जाता रहा है और अव्यवस्थाएं जस की तस ही हैं।
बहरहाल वर्तमान जिला कलेक्टर से अपेक्षा है कि वे एक बार नगर पालिका कार्यालय का भी भ्रमण करें और वास्तविकता को स्वयं जाकर देखें। जिला कलेक्टर को नगर पालिका के जिम्मेदारों से यह जरूर पूछना चाहिये कि वह इस तरह की कार्यप्रणाली क्यों अपनाये हुए है जिसके चलते शहर वासियों की परेशानियां लगातार बढ़ते ही जा रही हैं।
प्रवीण नरवरे

अब पाईए अपने शहर की सभी हिन्दी न्यूज (Click Here to Download) अपने मोबाईल पर, पढ़ने के लिए अपने एंड्रयड मोबाईल के प्ले स्टोर्स पर (SAI NEWS ) टाईप कर इसके एप को डाऊन लोड करें . . . आलेख कॉलम में दिए गए विचार लेखक के निजि विचार हैं, इससे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया प्रबंधन को सरोकार हो यह जरूरी नहीं है। स्वास्थ्य कॉलम में दी गई जानकारी को अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अमल में लाएं . . .

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *