अब ब्रॉडगेज के पूरे रेल नेटवर्क का होगा विद्युतीकरण

 

(ब्यूरो कार्यालय)

नयी दिल्ली (साई)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में हुई आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने इंडियन रेलवे नेटवर्क के ब्रॉडगेज लाईनों के पूरे नेटवर्क के विद्युतीकरण का फैसला किया है।

अभी ब्रॉडगेज के जिस नेटवर्क में डीजल इंजन से ट्रेनें चलती हैं, वहाँ भी इलैक्ट्रिक इंजन से ही ट्रेनें चलेंगी। यह कार्य 2021-22 तक पूरा होने की उम्मीद है। इस फैसले से न सिर्फ डीजल की खपत पर सालाना खर्च होने वाले साढ़े 13 हजार करोड़ रुपये की बचत होगी बल्कि पर्यावरण पर भी सकारात्मक असर होगा।

यह जानकारी देते हुए रेलमंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि कैबिनेट कमेटी के इस फैसले से 20.4 करोड़ रुपये मैन डेज के बराबर का रोजगार भी मिलेगा और इन रूटों पर चलने वाली ट्रेनों की औसत रफ्तार भी बढ़ेगी। दरअसल, रेलवे की ब्रॉडगेज लाईनों के सभी ट्रंक रूट पहले से ही इलेक्ट्रिफाई हो चुके हैं लेकिन अभी भी कुछ स्थानों पर इलेक्ट्रिफाई ब्रॉडगेज लाईनों की मिसिंग लिंक हैं। कैबिनेट कमेटी ने बचे हुए ब्रॉडगेज के 108 सेक्शन के कुल 13,675 किलोमीटर (16,540 ट्रैक किलोमीटर) को इलेक्ट्रिफाई करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

इस काम पर लगभग 12 हजार 134 करोड़ रुपये खर्च होंगे और अगले चार साल में यह कार्य पूरा होने की उम्मीद है। रेलवे का कहना है कि अभी रेलवे को सालाना 2.83 बिलियन लीटर डीजल की खपत करनी पड़ती है, लेकिन विद्युतीकरण के बाद यह खपत बेहद कम हो जायेगी। इस तरह से न सिर्फ डीजल पर खर्च होने वाली रकम बचेगी बल्कि इससे लाईन केपेसिटी भी बढ़ेगी और ट्रेनों की औसत स्पीड में भी बढ़ौत्तरी होगी।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *