रोज सुबह मंत्र-जाप करता था बुजुर्ग, घर में उग आई ऐसी चीज़..

 

ईश्वर की भक्ति में कितनी शक्ति है, इस सवाल के जवाब का एक बेहतरीन नमूना आपको इस खबर को पढ़ने के बाद पता चल जाएगा। हम बचपन से सुनते आ रहे हैं कि भगवान की भक्ति से हमें न सिर्फ शक्ति मिलती है बल्कि एक सकारात्मक ऊर्जा के साथ विश्वास भी मिलता है जो हमें लगातार आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करती है। आज हम आपको एक ऐसे शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं, जो भगवान की भक्ति में इस कदर लीन हुए कि उन्हें इसका ज़बरदस्त ईनाम मिला कि विश्व रिकॉर्ड बन गया। रघबीर सिंह संघेरा नाम के शख्स इंग्लैंड में रहते हैं। यहां उन्होंने अपने घर में ही एक किचन गार्डन बना रखा है, जहां वे फल और सब्जियां उगाते हैं।

1991 से इंग्लैंड के डर्बीशायर में रह रहे संघेरा लंबे समय से खेती में शौक रखते हैं। वे जब भारत में रहते थे, तब भी यहां खेती में लगे रहते थे। बता दें कि संघेरा अपने गार्डन में ककड़ी के पौधे के पास बैठकर रोजाना मूल मंतर (प्रार्थना) का जाप किया करते थे। प्रार्थना करते हुए समय बीतता गया और एक दिन उन्होंने देखा कि गार्डन में लगी ककड़ी 51 इंच की हो चुकी है। संघेरा ने बताया कि करीब चार महीने पहले उन्होंने अपने गार्डन में ककड़ी के चार बीज लगाए थे। संघेरा ने बताया कि वे पौधों को न सिर्फ पानी और खाद देते थे बल्कि उनके पास बैठकर रोजाना तीन घंटे प्रार्थना भी करते थे।

संघेरा के 51 इंच की ककड़ी से पहले गिनीज बुक में 42 इंच की ककड़ी पहले स्थान पर थी। लेकिन यहां एक समस्या आ रही है कि संघेरा द्वारा अरमेनियन कुकुंबर प्रजाति की ककड़ी उगाई गई है, इसे पहले भी गिनीज बुक के लिए रिजेक्ट कर दिया गया था। लेकिन गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स के एक अधिकारी ने बताया कि फिलहाल अरमेनियन कुकुंबर से जुड़े कोई भी रिकॉर्ड दर्ज नहीं है। यदि कोई चाहे तो गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स की वेबसाइट पर नए विषय के लिए आवेदन कर सकता है।

(साई फीचर्स)

 

अब पाईए अपने शहर की सभी हिन्दी न्यूज (Click Here to Download) अपने मोबाईल पर, पढ़ने के लिए अपने एंड्रयड मोबाईल के प्ले स्टोर्स पर (SAI NEWS ) टाईप कर इसके एप को डाऊन लोड करें . . . आलेख कॉलम में दिए गए विचार लेखक के निजि विचार हैं, इससे समाचार एजेंसी ऑफ इंडिया प्रबंधन को सरोकार हो यह जरूरी नहीं है। स्वास्थ्य कॉलम में दी गई जानकारी को अपने चिकित्सक से परामर्श के बाद ही अमल में लाएं . . .

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *